News

बागसेवनिया श्री आदी परिसर से नैहर किनारे हटेगा अवैध अतिक्रमण


नगर निगम जोन समिति की बैठक में हुआ प्रताव पास

भोपाल. अब काम नहीं आएगा अतिक्रमणकारियों को नेताओं का संरक्षण बागसेवनिया नैहर की होगी सफाई मिलेगा किसानों नैहर से पर्याप्त पानी नगर निगम के सूत्रों से जानकारी प्राप्त हुई है एक अधिकारी ने नाम न छापने की शर्त पर खबर खालसा न्यूज़ पोर्टल एवं डिजिटल न्यूज़ चैनल के प्रबंध संपादक को जानकारी देते हुए बताया है नगर निगम की जोन समिति की बैठक में यह प्रस्ताव पास हो चुका है कि बागसेवनिया क्षेत्र का अतिक्रमण हटाया जाएगा समय आने पर श्री आदि परिसर जो अवैध बनाया गया है वह तो टूटेगा ही थोड़ा समय जरूर लग सकता है क्योंकि नगर निगम के अधिकारी चाहते हैं अवैध बिल्डिंगे जितनी भी बनाई गई है वह सारी की सारी तोड़ी जाए जिसमें श्री आदि परिसर भी शामिल है नगर निगम के अधिकारियों को अगर राजनीतिक दबाव न हो तो सभी अवैध बिल्डिंग थोड़ी जा सकती है।




नगर निगम के  एक सूत्र ने जानकारी देते हुए यह बताया है की श्री आदि परिसर शॉपिंग कंपप्लेस टूटेगा जरूर थोड़ा समय लग सकता है क्योंकि इसमें प्रदेश की सत्ताधारी सरकार  एक विधायक जो मंत्री भी हैं वह नगर निगम के अधिकारियों पर इस शॉपिंग कंपलेक्स को ना  तोड़ने के लिए दबाव बना रहा है तारीफ की बात तो यह है कि इस विधानसभा से उसका कोई लेना देना ही नहीं है वह किसी और विधानसभा क्षेत्र का विधायक है, वह सिर्फ इसलिए अधिकारियों पर दबाव बना रहे हैं इस शॉपिंग कांप्लेक्स में एक ऐसे व्यक्ति की दुकान है जिसकी इस परिसर के  आसपास भी काफी अवैध दुकाने है जो की दबाव बनाने वाले मंत्री का काफी नजदीकी अपने आप को बताता है नगर निगम जब भी उस व्यक्ति को नोटिस भेजता है तो वह मंत्री के कदमों को जाकर पकड़ लेता है और मंत्री जी ना आओ देखते हैं ना ताओ नगर निगम के अधिकारियों पर दबाव बनाना शुरू कर देते हैं।




उचित समय आने पर उस मंत्री के नाम का खुलासा भी किया जाएगा फिलहाल हम बात करें वार्ड 54 की जहां से नैहर निकली हैं जो कटारा हिल्स की तरफ जाती है जिससे रापड़िया, दोपड़िया, झागरिया के किसानों को खेती करने के लिए पानी उपलब्ध कराती है, लेकिन राजनीतिक वोट बैंक की वजह से बागसेवनिया से कटारा हिल्स तक इस नैहर के ऊपर भारी मात्रा में अवैध अतिक्रमण किया हुआ है

अतिक्रमण कर बनाई गई होटल जहां पिलाई जाती है शराब

नैहर का पानी प्रदूषण युक्त तो बना ही हुआ है साथ में मुख्य मार्ग पर भी यातायात व्यवस्था पूरी तरह से बिगड़ी हुई है इस अतिक्रमण की वजह से आए दिन दुर्घटनाएं होती रहती है मुख्य मार्ग से निकलने वाले सभी उन व्यक्तियों को जान माल का खतरा भी बना रहता है क्या पता वह कब दुर्घटना का शिकार हो जाए अतिक्रमणकारियों ने चाय नाश्ते की दुकान, अंडे की दुकान, खाने की दुकान, सब्जी की दुकान, मुर्गी काटने की दुकान, यहां तक की बिल्डिंग मटेरियल सप्लायरों की भी कई दुकाने बनी हुई है जहां शराब पीने वाले मादक पदार्थ गांजा बेचने एवं सेवन करने वालो के साथ गुंडे ,बदमाशों ,आदतन अपराधियों का बैठने का भी अड्डा बना रहता है इस मार्ग से निकलने वाली लड़कियां एवं महिलाओं के साथ छेड़छाड़ तो होती ही रहती है भारी पैमाने पर अपराधियों का जमावाड़ा होने की वजह से आए दिन लड़ाई- झगड़ा हत्याओं जैसी घटनाएं भी होती रहती है जो पूर्व में भी कई हत्याएं इसी कारण हो चुकी है।

अतिक्रमण कर बनाई गई होटल लाल घेरे में जो काउंटर है यहां खड़ा करके पिलाई जाती है शराब

श्री आदि परिसर शॉपिंग कंपलेक्स के आसपास अतिक्रमण करके जितने भी अवैध दुकाने एवं ठेले लगते हैं सभी पर दिनभर शराब पीने वाले व्यक्ति वहां खड़े होकर शराब पीते रहते हैं इसके अलावा असामाजिक तत्वों का देर रात तक जमावाडा़ लगा रहता है इसका कारण है श्री आदि परिसर शॉपिंग कांप्लेक्स में शराब की दुकान का होना जो कि नहीं होने चाहिए थी क्योंकि रेहवासी क्षेत्र एवं संस्कृत महाविद्यालय इस शराब की दुकान से सटा हुआ है  जनहित में देखा जाए तो  यहां से निकलने वाले स्कूली छात्र-छात्राओ को काफी तकलीफों का सामना करना तो पड़ता ही है कामकाजी महिलाओं तक को छेड़छाड़ का शिकार भी होना पड़ता है।

इस होटल के नीले काउंटर पर शराब के पैक बनाता व्यक्ति



मुख्य मार्ग पर बने शॉपिंग कांप्लेक्स में संचालित शराब की दुकान को हटाने के लिए कई समाजसेवियों ने अपने स्तर पर काफी प्रयास किया है लेकिन शराब की दुकान नहीं हटाई गई इन शराब कारोबारी की वजह  से सरकार को भारी मात्रा में राजस्व इकट्ठा होने में जो मदद मिलती है जिसकी वजह से सरकार भी नहीं चाहती है की शराब की दुकान को मुख्य मार्ग से हटाई जाऐ , बधाई की पात्र है नगर निगम की जोन समिति एवं अधिकारियों का जिन्होंने इस अवैध अतिक्रमण को हटाने का निर्णय लिया है बागसेवनिया के इस अवैध अतिक्रमण को हटाने की मुहिम में सभी राजनीतिक दलों के नेताओं एवं समाजसेवियों को इस मुहिम में अपना योगदान अवश्य देना चाहिए

आसामाजिक तत्व

और खासकर सत्ताधारी सरकार के नेता, पार्षद ,विधायक, सांसद, इन सभी को किसी भी प्रकार का नगर निगम के अधिकारियों पर दबाव नहीं बनना चाहिए और ना ही इन अतिक्रमणकारियों को संरक्षण देना चाहिए , अगर वह वाकई क्षेत्र का विकास चाहते हैं इस क्षेत्र के मुख्य मार्ग पर यातायात व्यवस्था सुचारू रहे क्षेत्र के लोगों को दुर्घटनाओं से बचाया जा सके पढ़ने लिखने वाली छात्राओं कामकाजी महिलाओं की सुरक्षा उनका सम्मान बना रहे। गुंडे ,बदमाशों , आदतन अपराधियों, असामाजिक तत्वों जिनका यहां जमावाड़ा रहता है उसका खात्मा हो क्षेत्र में शांति व्यवस्था बनी रहे इसके लिए सभी नेताओं को चाहिए कि वह नगर निगम के द्वारा अतिक्रमण हटाने की इस मुहिम में बढ़ चढ़कर अपना योगदान दे ताकि नगर निगम अवैध अतिक्रमण हटाने की कार्रवाई को अंजाम तक पहुंचा सके जो कि जनहित में क्षेत्र के निवासियों की सुरक्षा के लिए अत्यंत आवश्यक है।




अब देखना यह है बोर्ड बैंक की राजनीति के चलते ऐसा कौन सा नेता है जो नगर निगम की इस कार्यवाही के आड़े आता है।

अवैध अतिक्रमण

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also
Close
Back to top button